August 6, 2020

असामाजिक तत्वों ने खंडित की संविधान निर्माता की प्रतिमा, कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा- शिव’राज’ में SC-ST वर्ग का हो रहा उत्पीड़न

0 0
Read Time:3 Minute, 9 Second

शिवपुरी जिले में कल देर रात पिछोर नगर के मुख्य बस स्टैंड पर स्थित भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को असामाजिक तत्वों के द्वारा खंडित कर दिया गया. पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए आरोपी पर 5 हजार का इनाम घोषित किया है.


शिवपुरी।
 कल देर रात पिछोर नगर के मुख्य बस स्टैंड पर स्थित भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को असामाजिक तत्वों के द्वारा खंडित कर दिया गया. नगर के लोगों में इस घटना को लेकर काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है. पुलिस प्रशासन द्वारा नगर को छावनी में तब्दील कर दिया गया है. सैकड़ों की संख्या में पुलिस बल मौके पर मौजूद है. पुलिस ने आरोपी पर पांच हजार रुपए का इनाम घोषित किया है, जिससे कि जल्द से जल्द आसामाजिक तत्व की शिनाख्त हो सके और आगामी कार्रवाई की जा सके.

सुवालाल जाट का कहना है कि, इससे पहले भी मूर्ति को खंडित किया गया था और अब एक बार फिर मूर्ति को खंडित किया गया. इसको लेकर पिछोर एसडीएम उदय सिंह सिकरवार को ज्ञापन दिया है और असामाजिक तत्वों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किए जाने की मांग की गई है.

वही पूर्व सीएम कमलनाथ ने शिवपुरी जिले के पिछोर में बाबा साहब अंबेडकर की प्रतिमा खंडित किए जाने पर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा बीजेपी के राज में SC-ST वर्ग के साथ उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ गई हैं. पिछोर में बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा को वापस पुराने स्वरुप में स्थापित किया जाए.

उन्होंने कहा है कि जब से प्रदेश में शिवराज सरकार आई है, अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के लोगों पर उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ गई हैं. पिछोर की घटना काफी निंदनीय है. यह माहौल बिगाड़ने की कोशिश है.

कमलनाथ ने सरकार से मांग की है इस मामले के दोषियों को चयनित कर तत्काल कार्रवाई की जाए. जबकि बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा को वापस पुराने स्वरुप में स्थापित किया जाए. जबकि प्रतिमा की सुरक्षा के सभी इंतजाम भी किए जाएं. क्योंकि वे सभी के लिए पूजनीय हैं. जबकि इस तरह की घटनाएं न हो इसके लिए भी सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए.

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *