July 11, 2020

विकास दुबे एनकाउंटर को लेकर फिसली शिवराज सरकार के मंत्री तुलसी सिलावट की जुबान, यहां पढ़ें क्या कह गए मंत्री जी.

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर शिवराज सिंह चौहान के नवनियुक्त मंत्री तुलसीराम सिलावट और इंदौर के सांसद शंकर लालवानी की जुबान फिसल गई है. जिसको लेकर कांग्रेस, बीजेपी पर निशाना साध रही है.

इंदौर.

मध्यप्रदेश में दो अलग-अलग स्थानों पर शिवराज सरकार के मंत्री तुलसीराम सिलावट और इंदौर सांसद शंकर लालवानी की जुबान फिसल गई. सिलावट ने जहां प्रधानमंत्री , राज्य के मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को लेकर अभद्र टिप्पणी कर डाली, तो सांसद ने कुख्यात विकास दुबे को ‘दुबेजी’ कह दिया. उत्तर प्रदेश के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को उज्जैन में गिरफ्तार किए जाने के बाद जब पुलिस कानपुर ले जा रही थी, तभी कार पलट गई और विकास ने भागने की कोशिश की. इस दौरान मुठभेड़ शुरू हो गई, जिसमें विकास मारा गया. जब इस मामले को लेकर मंत्री तुलसी राम सिलावट से सवाल किया गया, तो उनकी जुबान फिसल गई.

कांग्रेस ने साधा निशाना
कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने तुलसी सिलावट के बयान का वीडियो ट्वीट करते हुए कहा कि तुलसी भाई
इतना अन्याय मत करो यार
प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री का अपमान मत करो
आप उपमुख्यमंत्री बनना चाहते थे
पद आते जाते रहते है !

इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने पर सिलावट ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा, ‘विकास दुबे के खिलाफ की गई कार्रवाई पर मेरे द्वारा प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया गया था, मगर सोशल मीडिया पर कांग्रेस द्वारा गलत तरीके से तोड़मरोड़ कर मेरे इस बयान को प्रस्तुत किया जा रहा है, इसकी निंदा करता हूं और कांग्रेस के खिलाफ इन पर कड़ी से कड़ी कानूनी कार्रवाई करूंगा’.

क्या बोले सांसद शंकर लालवानी
वहीं, इंदौर सांसद शंकर लालवानी से विकास दुबे एनकाउंटर को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस को सहानुभूति हो सकती है, देश में किसी और से बात करोगे तो दुबेजी के बारे में कोई सहानुभूति नहीं हो सकती’. वहीं इस बारे में उनका कहना है कि विकास एक अपराधी था और उसने जो कृत्य किया था, उसकी जितनी निंदा की जाए कम है. मैंने ‘दुबेजी’ विकास के लिए नहीं बोला था, बल्कि पार्टी के एक कार्यकर्ता के लिए दुबेजी बोला था’.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *