RESEARCH: शोधकर्ताओं ने खोज निकाले नए 887 खरतनाक वायरस, जिसमें से 30 ऐसे जो भविष्य में ला सकते हैं भयंकर महामारी

नई-दिल्ली। CORONA संक्रमण ने दुनियाभर में जमकर तबाही मचाई है. इसकी SECOND WAVE पहले से कहीं ज्यादा खतनाक थी. वहीं, अब THIRD WAVE आने की आशंका जताई जा रही है. हालांकि वैज्ञानिकों ने पहले ही कई शोध के जरिए दावा किया था कि जानवरों में पाए जाने वाले वायरस इंसानों में प्रवेश कर जान के लिए खतरा बन सकते हैं. इसी बीच एक वेब बेस्ड प्लेटफॉर्म ने सनसनीखेज दावा किया है.

दरअसल, एक शोध के इस बात का खुलासा हुआ है कि जानवरों में पाए जाने वाले 887 तरह के VIRUS इंसान की जिंदगी को प्रभावित कर सकते हैं. इस RESEARCH में यह भी खुलासा किया गया है कि 30 ऐसे VIRUS हैं, जो इंसानों को गंभीर बीमारी दे सकते हैं. यानि इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि आने वाले दिनों में कोरोना की तरह ही कई गंभीर महामारी से दुनिया को जूझना पड़ेगा. बताया जा रहा है कि इस RESEARCH को पूरा करने में लगभग 10 साल लगे. STUDY को यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की संक्रामक रोग विशेषज्ञ जोना मैजेट ने पूरा किया है.

शोधकर्ताओं ने गंभीर VIRUS को उनके प्रभावित करने की क्षमता के आधार पर अलग-अलग कैटेगरी में बांटा है. पहला- राष्ट्रीय या क्षेत्रीय, दूसरा- अर्धवैश्विक यानी सेमी-ग्लोबल और तीसरा- वैश्विक यानी ग्लोबल. सबसे पहले हम आपको बताते हैं उन वायरसों के नाम जो किसी देश को या क्षेत्रीय स्तर पर परेशानी खड़ी कर सकते हैं. इनमें कोरोना वायरस के स्ट्रेन्स भी शामिल हैं. इसके अलावा अफ्रीकी. देशों में फैलने वाले इबोला VIRUS भी है.

ये वायरस NATIONAL या REGIONAL स्तर पर कर सकते हैं प्रभावित

लास्सा वायरस या एरेनावायरस, इबोला वायरस या फिलोवायरस, मार्बर्ग वायरस या फिलोवायरस, सार्स कोरोनावायरस, कोरोनावायरस 229ई, सार्स से संबंधित बीटा कोरोनावायरस, यूरोपियन बैट लिसा वायरस 1 या रैब्डोवायरस, एंडीज वायरस या बुनियावायरस, पुमाला वायरस, शेरेफॉन बैट कोरोना वायरस/केन्या, यूरोपियन बैट लिसावायरस 2, लागुना नेग्रा वायरस, इडोलोन बैट कोरोना वायरस, कॉउपॉक्स वायरस.

ये वायरस अर्ध-वैश्विक स्तर पर कर सकते हैं प्रभावित

अर्ध-वैश्विक यानी सेमी-ग्लोबल स्तर पर संक्रमण फैलाने की क्षमता रखने वाले वायरस हैं- सार्स-सीओवी-2, निपाह वायरस, सिमियन इम्यूनोडेफिसिएंसी वायरस या रेट्रोवायरस, कोरोनावायरस प्रेडिक्ट सीओवी-35, बोर्ना डिजीस वायरस या बोर्नावायरस, लॉन्गक्वान आ माउस कोरोना वायरस, मंकीपॉक्स वायरस, कोरोनावायरस प्रेडिक्ट सीओवी-24.

वायरस वैश्विक स्तर पर फैला सकते हैं महामारी

शोधकर्ताओं ने 30 ऐसे वायरस भी खोज निकाले हैं, जो दुनियाभर में महामारी फैला सकते हैं, क्योंकि उनके परिवार में म्यूटेशन की ताकत हैं. इनमें सियोल वायरस, हैपेटाइटिस ई वायरस या हेपेवायरस, रैबीस वायरस, लिम्फोसाइटिक कोरियोमैनिनजाइटिस वायरस, सिमियन फोमी वायरस, रोउसेट्स बैट कोरोना वायरस एचकेयू9, मुरीन कोरोनावायरस, मकाउ फोमी वायरस शामिल हैं.

You may have missed

error: Do not copy content thank you