आज घोषित होंगे युवा कांग्रेस चुनाव के परिणाम, 7 साल बाद प्रदेश को मिलेगा नया अध्यक्ष

भोपाल। मध्यप्रदेश यूथ कांग्रेस के चुनाव का आज परिणाम आने वाला है. जहां आज आने वाले परिणाम में मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस का अध्यक्ष कौन होगा इसकी तस्वीर साफ हो जाएगी. 10 से 12 दिसंबर तक चले संगठन चुनाव के बाद युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता बेसब्री से चुनाव परिणाम की तारीख का इंतजार कर रहे थे. ऐसे में युवा कांग्रेस को सात साल बाद नया प्रदेश अध्यक्ष मिलेगा.

यूथ कांग्रेस का चुनाव वोटिंग सिस्टम के तहत किया गया था. 10 से 12 दिसंबर तक चले वोटिंग सिस्टम में एक लाख 11 हजार से ज्यादा युवा कांग्रेस के सदस्यों ने मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए ऑनलाइन पद्धति से वोटिंग की थी. युवा कांग्रेस के सदस्यों की संख्या तीन लाख के ऊपर है, चुनाव में करीब 35 फीसदी सदस्यों ने मतदान में हिस्सा लिया था.

इन तीन दावेदारों पर सबकी नजर

इस चुनाव में पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया, पूर्व मंत्री लखन सिंह यादव के भतीजे संजय यादव और एनएसयूआई के प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी के बीच त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है. इन तीनों में से ही कोई एक यूथ कांग्रेस का अगला प्रदेश अध्यक्ष बनेगा, यह लगभग साफ हो गया है. लेकिन वोटिंग पैटर्न देखकर अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है, कि ऊंट किस करवट बैठेगा, क्योंकि कांग्रेस संगठन को अंदाजा था कि 60 से 70 हजार सदस्य ही वोटिंग करेंगे, लेकिन आंकड़ा एक लाख के पार पहुंच गया.

विधानसभा अध्यक्ष से लेकर प्रदेश अध्यक्ष के लिए डाले गए थे वोट

एक युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को 5 वोट डालने का अधिकार था, 2 वोट प्रदेश कार्यकारिणी, दो जिला कार्यकारिणी और एक वोट विधानसभा के लिए. फिलहाल सबकी नजरें चुनाव परिणामों पर हैं, जिससे जल्द ही साफ हो जाएगा कि यूथ कांग्रेस का नया प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा.

मतदान के बाद जारी हुए वोट रद्द करने के नियम

मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी विवेक त्रिपाठी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि मंगलवार को युवा कांग्रेस के अधिकृत व्हाट्सएप ग्रुप पर एक संदेश डाला गया था. संदेश में मतदान के 3 दिन बाद वोट रद्द करने के नियम जारी किए गए हैं. जिसके कारण युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में नाराजगी का भाव उत्पन्न हुआ है. कार्यकर्ताओं का कहना था कि चुनाव की प्रक्रिया को शुरू हुए 3 साल से ज्यादा हो चुके हैं. जब चुनाव परिणाम आने वाले हैं, उसके पहले हमें तुगलकी आदेश प्राप्त होता है. जिसमें अव्यावहारिक बातों का ज्यादा उल्लेख है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *