April 28, 2021

मध्यप्रदेश में 7 मई तक बढ़ा “कोरोना कर्फ़्यू”

2 1
Read Time:4 Minute, 49 Second

भोपाल। राज्य सरकार ने 7 मई तक कोरोना कर्फ्यू बढ़ा दिया गया है. 8 और 9 मई को शनिवार-रविवार है. दो दिन का वीकेंड लॉकडाउन का आदेश पहले से ही लागू है. इसलिए 10 मई की सुबह 6 बजे तक प्रदेश के सभी जिलों में सबकुछ बंद रहेगा. जिलों में वहां के हालात काे देखते हुए क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी छूट और पाबंदी में बदलाव कर सकती है.

7 मई तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने से ही कोरोना पर विजय पाई जा सकती है. प्रदेश एक्टिव केसेस में देश में 7 वें नंबर से बेहतर स्थिति में होकर 11 वें नंबर पर आ गया है. लेकिन कोरोना का स्वरूप कब क्या रूप ले ले, इसलिए हमें संभलकर चलना होगा.

मुख्यमंत्री ने कोरोना नियंत्रण के संबंध में आज कोविड प्रभारी मंत्रियों, कमिश्नर, कलेक्टर्स, पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस अधीक्षक और जिले में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से वर्चुअली चर्चा की.

पॉजिटिव मरीजों की दर घटी- रिकवरी रेट में वृद्धि

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों की दर लगातार घट रही है.मंगलवार को यह दर 22.76 प्रतिशत थी. जो आज घटकर कर 21.71 प्रतिशत हो गई है. इसके साथ ही रिकवरी दर में लगातार वृद्धि हुई है. प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर लगातार बढ़ रही है.23 अप्रैल को रिकवरी दर 80.41 प्रतिशत थी, जो बढ़कर 81.75 प्रतिशत हो गयी है. इसके साथ रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है, जो कल तक कुल 11 हजार 577 थी. आज 14 हजार 156 हो गई है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बताया कि प्रदेश के एक्टिव प्रकरण में आज पहली बार कमी देखने को मिली है. कल तक 94 हजार 276 एक्टिव केस थे, जो आज घटकर 92 हजार 773 हो गए हैं. मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के छिंदवाड़ा, शाजापुर, पन्ना, आगर-मालवा, उमरिया, कटनी, अनूपपुर, गुना, देवास और बड़वानी ऐसे 10 जिले हैं, जहां रोजाना नए पॉजिटिव केसों में कमी आई है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के कुछ जिलों में नए पॉजिटिव केस लगातार बढ़ रहे हैं. इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन में पॉजिटिव केसों में निरंतर वृद्धि हो रही है.

कोरोना कर्फ्यू का कराएंं कड़ाई से पालन

मुख्यमंत्री ने प्रभारी अधिकारियों से कहा कि संक्रमण की चेन तोड़ने में सबसे ज्यादा कारगर उपाय कोरोना कर्फ्यू है. जनता को प्रेरित कर इसका कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें. जनता कर्फ्यू कोई लॉकडाउन नहीं है, जनता द्वारा स्वयं संक्रमण से सुरक्षा के लिए लिया गया निर्णय है. उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है प्रदेश के लगभग 90 प्रतिशत ग्राम पंचायतें, अपने गांवों में कोरोना कर्फ्यू लगाने का स्वयं संकल्प ले चुकी हैं.

रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन की आपूर्ति

मुख्यमंत्री ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन कराएं. अनावश्यक रूप से इंजेक्शन की मांग पर अंकुश लगाएं. इंजेक्शन उसे मिले जिसे जरूरत हो और उतना जितनी आवश्यकता हो. सप्लाई और वितरण की अनावश्यक प्रतिस्पर्धा की प्रवृति जिले नहीं रखें. जितनी आवश्यकता हो उतनी ही मांग रखें.

About Post Author

विजय बागड़ी

Indian Journalist, Editor-in-chief of thetelegram.in
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
50 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
50 %
Surprise
Surprise
0 %

Latest Post