अजब एमपी का गजब कलेक्टर, खुद पर ही लगाया 100 रुपये का जुर्माना

राजगढ़ कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने खुद पर 100 रुपए का जुर्माना लगाया है. साथ ही 1139 कर्मचारियों पर 1 लाख 13 हजार रुपए का जुर्माना लगाया. इसके अलावा दो कर्मचारियों को निलंबित, दो तहसीलदार और जनपद CEO को कारण बताओ नोटिस थमाया है. कलेक्टर ने ये कार्रवाई जिले में कई महीनों से लंबित पड़ी शिकायतों का निराकरण नहीं होने पर की है.

राजगढ़। राजगढ़ कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने खुद और जिलेभर के कई कर्मचारियों पर 1 लाख 13 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है. उन्होंने ये जुर्माना जिले में लगातार लंबित चल रही कई तरह की शिकायतों का निराकरण नहीं होने पर लगाया है जिनमें सीएम हेल्पलाइन सहित कई प्रकार की शिकायतें शामिल हैं. कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने शिकायतों का निराकरण नहीं कर पाने के कारण खुद पर भी 100 रुपए का जुर्माना लगाया है. इसके अलावा जिले के 1 हजार 139 कर्मचारियों को भी इस कार्रवाई की जद में लिया है. ऐसे में करीब 1 लाख 13 हजार रुपए से ज्यादा राशि का जुर्माना लगाया गया है. आपको बता दें यह मध्यप्रदेश का पहला ऐसा मामला है जिसमें कलेक्टर ने खुद पर जुर्माना लगाया है.

कितनी शिकायतें लंबित

जिले में सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के साथ ही काफी शिकायतें लंबित चली आ रही हैं. जानकारी के मुताबिक 3 हजार 142 शिकायतें लंबित हैं. यह शिकायतें लेवल 1 से लेकर लेवल 4 तक पहुंच चुकी हैं, लेकिन इनका निराकरण नहीं हो पा रहा है. इसको लेकर कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने बैठक के दौरान जिम्मेदार अधिकारियों को शिकायतों का निराकरण करने के लिए सख्ती के साथ निर्देश दिए थे. सोमवार को जब फिर से बैठक हुई तो उसमें लेवल एक से लेकर लेवल 3 तक की शिकायतों के निराकरण को लेकर चर्चा की गई, लेकिन जब निराकरण होना सामने नहीं आया तो कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने खुद पर 100 रुपए का जुर्माना लगाते हुए 1139 अधिकारी-कर्मचारियों पर भी जुर्माना लगाया.

कलेक्टर महोदय के अनुसार उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि सभी विभागों की समीक्षा उन्हीं के द्वारा की जानी होती है और लंबित प्रकरणों का निराकरण समय पर न होने पर अंततोगत्वा दायित्व उन्हीं पर बनता है तो सभी अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ उनका भी दायित्व देखते हुए उन्होंने खुद पर भी हर्जाना लगाया है.

दो कर्मचारी निलंबित, दो तहसीलदार व जनपद CEO को थमाया नोटिस

कलेक्टर ने सभी विभागीय अधिकारी को एक सप्ताह के अंदर अभियान चलाकर शिकायतों का निराकरण करने के लिए निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि सीएम हेल्पलाइन, समाधान ऑनलाइन, जनसुनवाई और जनप्रतिनिधियों से प्राप्त पत्र का निराकरण एक सप्ताह में सुनिश्चित करें. समीक्षा बैठत के दौरान समय पर कार्य नहीं करने पर कलेक्टर ने दो कर्मचारियों को निलंबित करने के निर्देश भी जारी किए हैं. साथ ही राजगढ़, सारंगपुर तहसीलदार और सारंगपुर जनपद CEO सहित कई अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed