आखिर अस्पतालों में हो क्या रहा है? नर्स ने कहा आप मरने वाली हो और अगले ही दिन हो गई महिला की मौत

ग्वालियर। भारत में कोरोना के आने से पहले मरीजों से सभ्य लहजे में बात की जाती थी, उन्हें डॉक्टर व नर्स अपने परिवारजन मानकर ट्रीट करते थे लेकिन जबसे कोरोना की एंट्री भारत मे हुई है तभी से अस्पताल के स्टाफ और मरीज के बीच का रिश्ता भी बदल सा गया है. ऐसा ही एक वाक्या हम आपको बताएंगे जिसमे एक नर्स ने किस तरह एक महिला की मौत की भविष्यवाणी करी और उसके बोलने के अगले ही दिन महिला की मौत हो गई. है ना हैरान करने वाली बात?

दरअसल, किस्सा ग्वालियर का है, यहां बिरला अस्पताल में 24 अप्रैल को वंदना अग्रवाल नाम की महिला आईसीयू में भर्ती की गई थी. डॉक्टरों का कहना था कि वंदना कोविड-19 पॉजिटिव है. डॉक्टर उसका इलाज कर रहे थे और वंदना बिल्कुल स्वस्थ दिखाई दे रही थी. शुक्रवार को नर्स चंद्रा बघेल जब इंजेक्शन लगाने के लिए आई तो वंदना ने अपनी तबीयत के बारे में उससे पूछा तो नर्स ने बताया कि आप तो इस दुनिया मे बस चंद दिनों की मेहमान हो. इसके बाद इत्तिफाक देखिए शनिवार को वंदना अग्रवाल की मृत्यु हो गई.

महिला के परिजनों ने बताया कि वंदना अग्रवाल के पति सुरेंद्र अग्रवाल का भी इलाज इसी अस्पताल में हुआ था. 28 अप्रैल को अस्पताल प्रबंधन ने ठीक होने का दावा करते हुए डिस्चार्ज कर दिया था, लेकिन घर पहुंचते ही सुरेंद्र अग्रवाल की मौत हो गई थी. खबर लिखे जाने तक कोई प्रकरण पर निबंध नहीं हुआ है परंतु यह जांच का विषय है कि नर्स को वंदना अग्रवाल की मृत्यु की जानकारी कैसे थी. क्या वह भविष्यवक्ता है? क्या उसे किसी साजिश के बारे में पहले से पता था या फिर नर्स खुद किसी साजिश का हिस्सा है?