October 15, 2020

सिंधिया और प्रहलाद पटेल को नहीं मिली भाजपा के टॉप 5 स्टार प्रचारकों में जगह


-भाजपा ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची

भोपाल/दमोह। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की टाप टेन स्टार प्रचारकों की सूची में एक केंद्रीय मंत्री का कहीं नाम नहीं है ।वहीं जिन ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण उपचुनाव हो रहे हैं उन्हें भी दसवे नंबर के पायदान पर रखा गया है।


मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में भाजपा ने अपने स्टार प्रचारकों की सूची सार्वजनिक कर दी है। इस सूची में चौंकाने वाली बात यह है कि इसमें केंद्र की ओर से किसी एक भी बड़े नेता को स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल नहीं किया गया है । सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा जैसे तमाम बड़े नेता गायब हैं। तो दूसरी तरफ मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण उपचुनाव हो रहे हैं लेकिन उन्हें भी टॉप फाइव में जगह नहीं मिली है। श्री सिंधिया को स्टार प्रचारकों की सूची में 10 वें नंबर पर स्थान मिला है।

पहले नंबर पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा दूसरे नंबर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को शामिल किया गया है। इसी तरह तीसरे नंबर पर दुष्यंत कुमार गौतम चौथे नंबर पर विनय सहस्त्रबुद्धे तथा पांचवें नंबर पर केंद्रीय श्रम मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को जगह दी गई है । पूरी सूची में है हैरान कर देने वाली बात यह है कि भाजपा की फायर ब्रांड नेता उमा भारती को भी नौवें नंबर पर हैं। जबकि किसी समय उमा भारती के खासम खास मंत्री रहे कैलाश विजयवर्गीय को उनसे दो पायदान पहले सातवें नंबर पर और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को आठवें नंबर पर स्टार प्रचारक बनाया गया है । इस पूरे मामले में एक चौका देने वाली बात और सामने आई है। वह यह है कि पूर्वोत्तर के राज्यों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाने वाले और भाजपा को सत्ता के चरम पर पहुंचाने वाले दमोह से सांसद एवं केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल को भी टॉप टेन में जगह नहीं मिली है।

श्री पटेल को सिंधिया के बाद 11वे नंबर पर स्टार प्रचारक बनाया गया है। भाजपा ने कुल 30 लोगों को स्टार प्रचारकों की सूची में रखा है। सूची में हैरान कर देने वाली एक बात यह भी है कि आखिरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया को इतने पीछे स्थान क्यों दिया गया है । जबकि भाजपा आज यदि सत्ता का सुख भोग रही है तो वह केवल सिंधिया और उनके समर्थकों के कारण ही है।भोग नहीं लगाया क्या भाजपा को ज्योतिराज सिंधिया की क्षमताओं पर भरोसा नहीं है जो उन्हें टॉप फाइव में भी शामिल नहीं किया इसी तरह केंद्रीय मंत्री श्री पटेल को भी इतने पीछे रखने की मंशा लोगों की समझ से परे है। श्री पटेल के बाद अन्य 19 नेताओं की सूची में शामिल किया गया है। जिसमें जगदीश देवड़ा, भूपेंद्र सिंह, सत्यनारायण जटिया, कमल पटेल, नंदकुमार चौहान, जबलपुर सांसद राकेश सिंह आदि शामिल हैं।

रिपोर्ट: शंकर दुबे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *