मध्यप्रदेश: आज से नर्सों की हड़ताल, टीकाकरण सहित अन्य स्वास्थ्य सेवाएं होगी प्रभावित

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए Madhya Pradesh Nurses Association एक बार फिर काम बंद कर हड़ताल पर जाने की तैयारी में हैं. बुधवार को सुबह से ही यह सभी नर्से काम बंद कर सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू करेंगे. उनके अनुसार सरकार ने उनकी मांगों को लेकर 30 जून तक का आश्वासन दिया था. लेकिन समय अवधि खत्म होने के बाद भी सरकार अभी तक मांगें पूरी नहीं कर पाई है. ऐसे में यह एक बार फिर आंदोलन की राह पर है.

सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप

दरअसल, 10 JUNE जुनियर डॉक्टर के बाद Madhya Pradesh Nurses Association ने सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था. चिकित्सा शिक्षा मंत्री से मिले आश्वासन के बाद उन्होंने अपना आंदोलन और हड़ताल वापस ले ली थी. लेकिन लगता है एक बार फिर यह आंदोलन शुरू होने जा रहा है. नर्सेज एसोसिएशन ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए एक बार फिर हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है. बुधवार से यह सभी नर्सेज काम बंद कर हड़ताल करेंगे. नर्सों का कहना है कि सरकार ने 30 जून तक मांगों के संबंध में आश्वासन दिया था, लेकिन अभी तक उन्हें कोई लिखित में आदेश नहीं मिला है. ऐसे में वह अब फिर से हड़ताल पर जा रही हैं.

मध्यप्रदेश की नर्सों को अन्य प्रदेशों की नर्सों से कम मिलती है सुविधा

NURSES ASSOCIATION का कहना है कि हम पिछले कई वर्षों से लगातार अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं. लेकिन सरकार के कानों में अभी तक कोई जू नहीं रेंगी. नर्सेस COVID में भी लगातार काम करते हुए संक्रमित हुई है. कई के परिवार में लोगों की मृत्यु हो चुकी है, लेकिन सरकार बावजूद इसके इनके प्रति संवेदनशील नहीं है. अन्य प्रदेशों में नर्सेज को नर्सिंग ऑफिसर के पद पर माना जाता है. उन्हें ग्रेड-2 की सुविधा दी जाती है. लेकिन MADHYA PRADESH में अभी भी स्टाफ नर्स का मानदेय दिया जाता है. वहीं रात में ड्यूटी करने के दौरान भी इनका अलाउंस अन्य राज्यों के मुकाबले कम है.

इन मांगों को लेकर नर्सिंग स्टाफ कर रहा है आंदोलन

●पुरानी पेंशन योजना को जल्द से जल्द लागू किया जाए.

●कोरोना संक्रमण में जान गंवाने वाली नर्सिंग स्टाफ को 15 अगस्त को राष्ट्रीय अवार्ड दिया जाए.

●नर्सों को डेजिग्नेशन प्रमोशन दिया जाए, साथ ही अन्य स्टेट की तरह नर्सों के पदों का नाम परिवर्तित किया जाए.

●मेल नर्स की भर्ती की जाए.

●नर्सों को समान कार्य के लिए समान वेतन मान दिया जाए.

You may have missed

error: Do not copy content thank you