कोरोना संक्रमण के बीच DAVV की वार्षिक व सेमेस्टर की ऑफलाइन परीक्षा, छात्र संघठनों ने शुरू किया विरोध

आयुषी चढ़ोकार

इंदौर। अप्रैल में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा करवाने की संभावनाएं है. बीए, बीकॉम और बीएससी सहित अन्य यूजी कोर्सेज की ऑफलाइन परीक्षाएं करवाई जाएगी. उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर देवी अहिल्या विश्वविद्यालय ने ऑफलाइन परीक्षाएं आयोजित की है.मगर लगातार बढ़ती कोरोना मरीज की संख्या को लेकर छात्र संगठनों ने ऑफलाइन पद्धति से परीक्षा करवाने का विरोध किया है.

छात्र नेताओं का कहना है कि संक्रमण के बीच ऑफलाइन परीक्षा का निर्णय बिल्कुल गलत है. परीक्षा केंद्रों पर छात्रों की भीड़ से संक्रमण फैलने का खतरा अधिक रहेगा. वहीं दूसरी और परीक्षा को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है. प्रशासन इन दिनों परीक्षा केंद्र बनाने की तैयारियां कर रहा है.

बीए, बीकॉम, बीएससी कोर्सेज के फर्स्ट, सेकंड व फाइनल ईयर की परीक्षा अप्रैल से मई के बीच होना संभव है. परीक्षा में सरकार द्वारा कोविड-19 महामारी को लेकर दी गई गाइडलाइन का पालन करना आवश्यक है. इसके तहत विश्वविद्यालय तैयारियों में जुटा है, लगभग पौने दो लाख विद्यार्थियों के लिए 130 से ज्यादा केंद्र बनाए जाएंगे. जहां विद्यार्थियों के बीच 6 फीट की दूरी रहेगी.

युवक कांग्रेस के छात्र नेता अभिजीत पांडे और अनमोल ढोली ने ऑफलाइन परीक्षा का विरोध कर प्रभारी रजिस्ट्रार अनिल शर्मा को ज्ञापन सौंपा. छात्र नेताओं का कहना है की इस बढ़ते हुए संक्रमण को देखते हुए ऑफलाइन परीक्षाएं करवाना उचित नहीं है. विद्यार्थियों के अलावा कर्मचारियों शिक्षकों को भी संक्रमण का खतरा रहेगा. ऐसी स्थिति में ऑनलाइन या ओपन बुक पद्धति से परीक्षा करवाना बेहतर होगा. भौतिक पद्धति से कराई गई परीक्षा के चलते प्रत्येक व्यक्ति एक दूसरे से उत्तर पुस्तिका के जरिए संपर्क में आएगा जिससे संक्रमण बढ़ने के आसार है. मामले में छात्र संगठन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव अतिरिक्त संचालक डॉ सुरेश सिलवट को भी ज्ञापन दिया.

प्रभारी रजिस्ट्रार शर्मा का कहना है मार्च पहले सप्ताह से संक्रमण फिर बढ़ने लगा है, इसके लिए विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से राय ली जाएगी. परीक्षा को लेकर विभाग से गाइडलाइन आ चुकी है.