आगर: झोलाछाप डॉक्टर के खेत मे इलाज करने वाले मामले में पंचायत सचिव पर गिरी गाज, ग्राम पंचायत बोरखेडीकांवल का सचिव हुआ निलंबित

आगर-मालवा। जिले में कोरोना की भयावहता को दर्शाती हुई कुछ भयानक तस्वीरें कल सामने आई थी, जिसमें जिले की सुसनेर तहसील के ग्राम धानियाखेड़ी में एक झोलाछाप डॉक्टर संतरे के बगीचे में पेड़ पर बोतल लटका कर मरीजों का इलाज कर रहा था. यह खबर सभी मीडिया प्लेटफॉर्म पर दिखाए जाने के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में कल स्वास्थ विभाग, राजस्व व पुलिस विभाग का अमला मौका मुआयना करने खेत पर पहुंचा तो वही झोलाछाप डॉक्टर पर सुसनेर थाने में एफआइआर भी दर्ज करा दी गई लेकिन अब इस पूरे मामले में गलती कहीं ना कहीं जिस पंचायत के गांव में यह काम चल रहा था वहां के सचिव की भी नजर आ रही थी इसीलिए ग्राम पंचायत बोरखेड़ीकांवल के सचिव ओमप्रकाश पाठक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है जिसका आदेश मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत आगर डीएस रणदा ने जारी किया है.

आदेश में लिखा है कि ग्राम पंचायत बोरखेड़ीकांवल के ग्राम धानियाखेड़ी में झोलाछाप डॉक्टर द्वारा इलाज करने का मामला समाचार पत्रों व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रकाशित हुआ, जिसकी जांच अनुविभागीय अधिकारी, राजस्व, अनुभाग सुसनेर, अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस अनुभाग सुसनेर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला आगर-मालवा, ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत सुसनेर के द्वारा संयुक्त रूप से की गई.

कार्यालय मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत सुसनेर के पत्र क्रमांक/ स्था/ 2021/ 320 सुसनेर दिनांक 5 मई 2021 से ग्राम पंचायत बोरखेड़ीकांवल के सचिव ओम प्रकाश पाठक के विरुद्ध ग्राम पंचायत मुख्यालय से लगातार अनुपस्थित रहने, भारतीय दंड संहिता की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के आधार पर निलंबन की अनुशंसा की गई है.

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत सुसनेर के अनुशंसा के आधार पर ओमप्रकाश पाठक सचिव ग्राम पंचायत बोरखेड़ीकांवल जनपद पंचायत सुसनेर को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है. निलंबन अवधि में इनका मुख्य कार्यालय जनपद पंचायत सुसनेर नियत किया जाता है. निलंबन अवधि में शासन नियम अनुसार वेतन भत्ते देय होंगे.

You may have missed

error: Do not copy content thank you