लापरवाही की शादी! शादी के नौ दिन बाद ही उठी दूल्हे की अर्थी, कोरोना से था संक्रमित

जालोर/भोपाल। रायपुरिया के रहने वाले ईश्वर सिंह ने अपनी बेटी कृष्णा कंवर की शादी 30 अप्रैल को बड़े धूमधाम से बैरठ गांव के शैतान सिंह के साथ की थी. खुशी-खुशी शादी की तमाम रस्में पूरी कर, कृष्णा अपने ससुराल पहुंची. लेकिन शादी के 9 दिन बाद ही कोरोना ने कृष्णा से उसका पति छीन लिया. कोरोना से मिले इस दर्द को अब कृष्णा पूरी जिंदगी नहीं भूल पाएगी. इस हादसे के बाद दोनों परिवारों में मातम का माहौल है. कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं कि शुभ मुहूर्त की आड़ में रचाए जा रहे विवाह समारोहों के भीड़ भरे आयोजनों पर सरकार पूरी पाबंदी क्यों नहीं लगा रही है. जानकारी के अनुसार, शैतान सिंह और कृष्णा कंवर की शादी के लिए परिवार वालों ने शुभ मुहूर्त निकलवाया था. कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को बीच दोनों परिवारों ने आपसी सहमति से शादी का आयोजन किया था. शादी की सारी रस्मे पूरी करने के बाद नव विवाहित जोड़ा अपने घर बैरठ पहुंचा तो दूसरे दिन दूल्हे शैतान सिंह का स्वास्थ्य बिगड़ गया.

जब दूल्हे शैतान सिंह को अस्पताल ले जाकर कोरोना की जांच करवाई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई. उसके बाद शैतान सिंह को परिजनों से अस्पताल में भर्ती करवा दिया. शैतान सिंह के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट होती गईं और उपचार के दौरान 9 मई को शैतान सिंह की कोरोना से मौत हो गई.

जालोर की कृष्णा कंवर और शैतान सिंह की ये खबर अब लोगों के बीच चर्चा का विषय है. जिसमें साफ तौर पर सभी को इस शादी के बाद सबक लेने की अपील के साथ लिखा जा रहा है कि शुभ मुहूर्त की आड़ में कृष्णा कंवर की जिंदगी को नरख बना दिया.