आगर के ग्राम रणायरा राठौर में प्रतिबंध के बावजूद कर रहे थे शादी, प्रशासन ने बिना दुल्हन के ही बारातियों को लौटाया

आगर-मालवा। प्रदेश में कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से शादी ब्याह न करने की अपील की है वहीं आगर कलेक्टर अवधेश शर्मा द्वारा 15 मई तक शादी-विवाह सहित अन्य भीड़ एकत्रित करने वाले सभी प्रकार के समारोह को पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है लेकिन इसके बावजूद भी ग्रामीण अंचलों में लोग मानने को तैयार नहीं है और हर रोज शादी ब्याह हो रहे हैं.

ग्राम रणायरा राठौर के शंभू सिंह राठौर के यहां आज विवाह समारोह में गरोठ, जिला मंदसौर से बारात की बस पहुंचने की सूचना पर एसडीएम राजेंद्र रघुवंशी द्वारा कार्यवाही करते हुए बारात को बिना शादी के ही पुनः वापस अपने घर जाने के लिए रवाना कर दिया गया. इतना ही नहीं बारात की बस को पुलिस की निगरानी में जिले की सीमा से बाहर तक छोड़ा गया. जिसके बाद एसडीएम ने आगर तहसीलदार व पटवारी त्रिलोक पाटीदार को विवाह संबंधित कार्यवाही रोकने के लिए विवाह स्थल रणायरा राठौर भेजा ताकि वहां फिजूल की भीड़ एकत्रित ना हो और संक्रमण का खतरा ना बढ़े..

आपको पुनः बता दे, आगर जिले में कलेक्टर अवधेश शर्मा द्वारा कोरोना कर्फ्यू 15 मई तक बढ़ा दिया गया है. कलेक्टर द्वारा जारी किए गए आदेश के अनुसार शादी-ब्याह सहित अन्य भीड़ एकत्रित करने वाले सभी प्रकार के समारोह को पूर्णतः प्रतिबंधित 15 मई तक किया गया है.

You may have missed

error: Do not copy content thank you